Top News

पानी पीने का भी एक तरीका होता है. चौंकिए मत, यह बिलकुल सच है. अब तक आपने सिर्फ क्‍या खाएं और कैसे खाएं के बारे में ही सोचा होगा, लेकिन क्‍या आपने कभी पानी पीने के सही तरीके के बारे में भी सोचा है? जी हां, ईटिंग हैबिट की
तरह पानी पीने का सही तरीका अपनाना भी बेहद जरूरी है. पानी पीते वक्‍त हम ज्‍यादा सोचते नहीं हैं. जब हमें प्‍यास लगती है तब हम पानी के टेम्‍परेचर यानी कि ठंडा-गरम देखकर उसे झट से पी लेते हैं. घर में बड़े-बूढ़े अकसर ही कहते हैं कि
खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए, लेकिन हम उनकी इस हिदायत को हर बार नजरअंदाज करते हैं. लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि खड़े होकर पानी पीना आपके शरीर के लिए खतरनाक हो सकता है?
अगर आप भी खड़े होकर पीते है पानी तो हो जाइये सावधान

आयुर्वेद हमेशा ऐसी लाइफस्‍टाइल को अपनाने के लिए प्ररित करता है जो नेचर के अनुकूल हो. जब आप खड़े होकर पानी पीते हैं तब आपकी नसें तनाव में आ जाती हैं. नसों के तनाव में आने से शरीर का फाइट सिस्‍टम एक्टिव हो जाता है और इससे शरीर को किसी खतरे का अंदेशा होने लगता है. आयुर्वेदिक व‍िशेषज्ञ डॉक्‍टर धनवन्‍तरि का कहना है कि खड़े होकर पानी पीने का सीधा संबंध पानी पीने की स्‍पीड से है. पानी खड़े होकर किस स्‍पीड से पिया जा रहा है इस पर बहुत कुछ निर्भर करता है.
ऐसा कहा जाता है कि स्‍टैंडिंग पेाजिशन में पानी पीने की स्‍पीड बढ़ जाती है. डॉक्‍टर धनवन्‍तरि के मुताबिक यहीं से अर्थराइटिस और घुटने के दर्द की शुरुआत होती है. उनके अनसुार ऋग वेद में पॉश्‍चर के बारे में जिक्र किया गया है, जिसके कई मायने हो सकते हैं. हालांकि आयुर्वेद में इस बात का जिक्र तो नहीं है कि खड़े होकर पानी नहीं पीना चाहिए लेकिन ये तो कहा ही गया है कि भोजन धीरे-धीरे करना चाहिए. धीरे खाने से खाना जल्‍दी पचता है और यही बात पानी के लिए भी लागू होती है.
डॉक्‍टर धनवन्‍तरि के मुताबिक, ‘पानी को हवा की तरह धीरे और आराम से लेना चाहिए. तेजी से पानी पीने पर विंड पाइप और फूड पाइप में ऑक्‍सीजन की कमी हो सकती है. इसका सीधा असर दिल और गुर्दे पर पड़ता है. यही नहीं तेजी से पानी पीने के दौरान फूड पाइप में हवा का दबाव बनने लगता है. इससे हड्डियों और जोड़ों में खराबी आ जाती है. जोड़े कमजोर हो जाते हैं और उनमें दर्द होने लगता है. खड़े होकर पानी पीने वाली बात भले ही आपको बकवास लगे, लेकिन आपको बता दें कि अगर बैठकर भी पानी तेजी से पिया जाए तो भी ये खतरनाक हो सकता है. इसलिए पानी पीने की स्‍पीड का खयाल रखें. हमेशा धीरे-धीरे आराम से ही पानी पीएं.
कुछ लोगों के लिए खड़े होकर पानी पीने से होने वाले नुकसान की बात महज एक वहम है, लेकिन कुछ लोागें के लिए यह वैज्ञानिक सच्‍चाई है. डॉक्‍टरों के मुताबिक फिट बॉडी के लिए खाने-पीने की अच्‍छी आदतें अपनाना बेहद जरूरी हैं. इसलिए ज्‍़यादा सोचिए मत और अगली बार पानी की घूंट पीने से पहले बैठन न भूलें.
हर कोई सुंदर दिखना चाहता है लेकिन समय के साथ-साथ चेहरे पर उम्र का झलकना स्वाभाविक है। इसी से बचने के लिए लोग बाजार में मिलने वाली कई एंटी एजिंग क्रीम का इस्तेमाल करते हैं लेकिन आज हम आपको पांच ऐसे घरेलू नुस्खे बताएंगे जो न केवल आपकी जेब का ख्याल रखेगा बल्कि आपकी उम्र को भी छिपाने में मदद करेगा।

30 की उम्र में दिखना चाहते है 20 का तो अपनाये ये नुस्खे


ऑलिव ऑयल और शहद
शहद और ऑलिव ऑयल दोनों में ही भरपूर मात्रा में पोषक तत्व मौजूद होते हैं और इनका पैक एंटी एजिंग का काम करता है।
विधि- एक चम्मच ऑलिव ऑयल और एक चम्मच शहद को बराबर मात्रा में मिलाए। इसके बाद चेहरे पर लगाते हुए मसाज करें और कम से कम 10 से 15 मिनट तक रहने के बाद पानी से मुंह धो लें।
चेहरे के लिए होता है बहुत फायदेमंद पानी का भाप लेना
सेब का सिरका
सेब के सिरके में एक तरह का एसिड पाया जाता है जो चेहरे की खराब हो चुकी त्वचा को हटाने का काम करता है इसके साथ ही उम्र के साथ आई झुर्रियों को भी कम करने का काम करता है।
विधि- थोड़ा से सेब के सिरके में उतनी ही मात्रा में पानी मिलाए। इसके साथ स्प्रे वाली बोतल की मदद से चेहरे पर स्प्रे करें। ऐसा रोजाना करने से चेहरा हमेशा जवां रहेगा।
दही
दही में लैक्टिक एसिड पाया जाता है जो त्वचा कोशिकाओं को दोबारा बनाने में मदद करता है।
विधि- आधा कप दही ले और उससे चेहरे पर हल्के हाथों से मसाज करें और उसे 20 मिनट तक रहने दें और फिर ठंडे पानी से चेहरे को धो लें।
मेथी
मेथी त्वचा के लिए लाभकारी होती है ये त्वचा को जवां बनाए रखने में मदद करती है।
विधि- सबसे पहले मेथी को पीस लें उसके बाद इसी पेस्ट को चेहरे पर लगाए। इस पेस्ट को चेहरे पर रातभर रहने दें और सुबह पानी से चेहरा धो लें। ऐसा रोजाना करने पर आपको जल्दी फायदा दिखेगा।
विष्णु पुराण के अनुसार एक बार मां लक्ष्मी भगवान विष्णु से बात कर रही थीं। महिलाओं के बारे में विष्णु जी के ज्ञान को परखने के लिए लक्ष्मी जी ने उनसे कुछ सवाल किए तो बातों ही बातों में भगवान विष्णु ने महिलाओं के शरीर के बनावट के आधार पर उनके 12 लक्षण बताए जिन्हें जानकर आप हैरान हो सकते हैं। विष्णु पुराण के अनुसार, अगर किसी महिला का चेहरा गोल है और उनकी नाभि थोड़ी दायीं ओर मुड़ी हो तो वह बहुत ही भाग्यशाली होती हैं और उनका जीवन सुखमय होता है।
महिलाओं की शारीरिक बनावट से जानिए उनके ये राज

चमकदार त्वचा और कमल की तरह कोमल हाथों वाली महिला विनम्र स्वभाव की होती है और उनका अपने साथ के लोगों से अटूट जुड़ाव होता है। अगर गोल नाभि वाली किसी महिला के बाल ग्रे या हल्के भूरे रंग के हैं तो वह सामान्य जीवन जीने वाली होती हैं। हमेशा उलझे और शुष्क रहने वाले बालों और बाहर को निकली आंखों वाली महिला का जीवन अपेक्षाकृत कठिन होता है। पूरे चांद की तरह गोल चेहरे वाली महिला जिसके चेहरे पर सूरज सा तेज हो, उत्साहपूर्ण और वैभवशाली जीवन का हिस्सा बनती है।

woman body secret in hindi

जिस महिला की कलाई की बनावट कड़ी हो और उसे खोलने पर धारियां बनती हों, उनके जीवन में ढेर सारी कठिनाइयां आती हैं और अगर उनके हाथ में कम रेखाएं हों तो आर्थिक कठिनाईयों का भी सामना करना पड़ता है। अगर हाथ की रेखाएं गुलाबी हों जिंदगी खुशहाल होती है, वहीं रेखाएं काली हों तो इन्हें दबाव में जीना पड़ता है। महिला के हाथ पर चक्र, शंख या फिर छल्ले का निशान हो तो इससे पता चलता है कि उनका बच्चों पर अच्छा नियंत्रण होगा और वह भविष्य में एक अच्छी शासक या निर्देशिका होंगी।
जिस महिला के बाल बाहों से बाहर तक फैलते हों और इनके अलावा, नीचे के होंठ थोड़े चौड़ा हो तो यह उनके वैवाहिक जीवन के लिए ठीक नहीं होता। जिस महिला के हाथ पर माला के आकार के निशान होते हैं वह परिवार के सदस्यों की तुलना में बेहतर स्थिति प्राप्त करती हैं।जिन महिलाओं के पैर की छोटी और बड़ी उंगली जमीन को नहीं छूती हैं वह अपने साथ रहने वाले लोगों के लिए अच्छा भाग्य लेकर आती हैं जिन महिलाओं की आंखें सुंदर, चमकदार और बड़ी होती हैं उनका भाग्य प्रबल होता है। इसी तरह चिकनी और नाजुक त्वचा वाली हंसमुख कन्या का वैवाहिक जीवन उत्तम होता है।

face steaming benefits in hindi : प्रकृति से हमें बहुत कुछ मिला है लेकिन आज हम लोग नेचुरल निखार के लिए दवाइयों और ट्रीटमेंट का भरपूर सहारा लेते है। लेकिन क्या आप जानते है की प्रकृति की छोटी से छोटी वस्तु भी हमारे सौंदर्य के कई गुणा निखार सकती है उन्ही में से एक तरीका है गर्म पानी की भाप लेना। खासतौर पर सर्दियों में भाप संबंधी उपचार का बहुत अधिक उपयोग होता है। तो आइये जानते है गर्म पानी की भाप लेने के कुछ फ़ायदे…..

Face steaming benefits in hindi


1 त्वचा की गहराई से सफाई करने और त्वचा को प्राकृतिक चमक प्रदान करने के लिए भाप लेना एक बहुत हिन् बेहतरीन तरीका है।
2 चेहरे की मृत त्वचा को हटाने एवं झुर्रियों को कम करने के लिए भी भाप लेना एक बहुत ही बढ़िया उपाय है। यह आपकी त्वचा को बहुत ताजगी देता है। और त्वचा की मृत सेल को भी हटाता है।
3 ठंड लगने पर और जुकाम लगने पर अदरक, खाड़ी लौंग को गरम पानी में डालकर भाप लेने से सर्दी जुखाम में बहुत राहत मिलती है।
4 गर्म भाप से आपकी बंद नाक खुलती है और आप बहुत ही आसानी से सांस ले पाते है।
5 गर्म भाप लेने से आपके शरीर का तापमान भी बहुत बढ़ता है जिससे रक्‍त धमनी का विस्‍तार हो जाता है। इससे ब्‍लड सर्कुलेशन में भी बहुत सुधार होता है, स्किन के छिद्र खुलते हैं और आपकी रंगत लौट आती है। और शरीर में भरपूर एनर्जी बनी रहती है।
तो आप भी इन छोटी छोटी बातों का ध्यान अवश्य रखे और प्रकृति से मिली इन अनमोल बस्तुओं का भरपूर फायदा उठाये।
Benefits of eating peas in Hindi पुलाव के स्वाद के साथ-साथ पोहे को टेस्टी बनाने वाली मटर को लेकर लोगों के मन में कई भ्रम हैं।कुछ लोगों का मानना है कि मटर सिर्फ खाने को लजीज बनाती है इसमें पोषक तत्व नहीं होते। अगर आप कुछ ऐसा ही सोच रहे हैं तो ऐसा बिल्कुल नहीं हैं। मटर में विटामिन्स और मिनरल्स भरपूर मात्रा में होते हैं।इसके साथ ही ये सेहत के अलावा त्वचा को भी निखारने का काम करती है।

Benefits of eating peas in Hindi

पोषक तत्वों से भरपूर है मटर
मटर में प्रोटीन और फाइबर से भरपूर होती है जिनके कारण इनके पोषक तत्व काफी बढ़ जाते हैं।
मटर में आयरन, जिंक, मैगनीज और कॉपर मौजूद होता है जो शरीर को बीमारियों से बचाता है। इसके अलावा इसमें एंटी ऑक्सीडेंट भी पाया जाता है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है ताकि आपका शरीर बीमारियों से मुक्त रहे।
शुगर को नियंत्रित करता है
मटर शुगर की मात्रा को नियंत्रित करने का काम करता है जिससे डायबटीज होने की आशंका कम हो जाती है।
हड्डियों को करती है मजबूत
मटर में कैल्शियम और जिंक होता है जो हड्डियों को मजबूती देता है।

क्यों होते हैं हाथ-पैर सुन्न, कहीं स्लिप डिस्क, मल्टीपल स्क्लेरोसिस तो नहीं

Why are hand-foot numbness, somewhere slip discs, multiple sclerosis


coconut health benefits in marathi

अभी तक आपने केले खाने के फायदे के बारे में सुना होगा| लेकिन आज हम आपको केले के छिलके के फायदे के बारे में बताएंगे, जिसे शायद आप नही जानते हो|

केला एक ऐसा फल है जो विटामिन, मिनरल्‍स और प्रोटीन का सबसे अच्‍छा स्‍त्रोत पाया जाता है, जो हमारी सुन्दरता को निखारने में काफी लाभदायक होते हैं| तो चलिए जानते हैं केले के छिलके के फायदे-

1. केले का छिलका मुंहासो के इलाज के लिए बहुत अच्छा होता है| क्यूंकि केले में एंटी आक्सीडेंट की शक्ति पाई जाती है जो मुंहासो को ख़त्म करने के लिए फायदेमंद होता है|

2. केले के छिलके के सफेद भाग को अपने चहरे पर 15 मिनट के लिए रगड़े, फिर 25 मिनट के बाद इसे गुनगुने पानी से धोलें| ऐसा करने से आपकी त्वचा की लाइनों और झुर्रियों से निजात मिलेगी|

3. आजकल शरीर में दर्द का होना आम बात हो गयी है| अगर आप भी इस दर्द का हिस्सा बन गयी है तो ऐसे में आप केले के छिलके को अपने बदन पर 20 मिनट के लिए लगाकर छोड़ दें| रोजाना ऐसा करने से आपको जल्दी दर्द में रहात मिलेगी|

4. अगर आप तनाव में रहते हैं तो एक ग्‍लास पानी में केले के छिलके डालकर गर्म करें और ठन्डे होने के बाद इस पानी को पिएं| ऐसा करने से आपका तनाव दूर हो जाएगा|

5. केले का छिलका हमारे दांतों के लिए भी काफी फायदेमंद होता है इसीलिए आप इस छिलके को अपने दांतों पर 15 मिनट तक रगड़े| ऐसा करने से आपके दांतों का पीलापन दूर हो जाएगा|